Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2023 · 1 min read

पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।

मुक्तक

करो मेहनत कमाओ खूब तो अच्छा है जी।
खुदारा आप भी सोचा करो अच्छा है जी।
कहां से नौकरी लाएं सभी के खातिर हम,
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।

कहें जो आप वही है सही अच्छा है जी।
अगर विकास यही है यही अच्छा है जी।
पढ़े व गैर ‌ पढ़े सब लगाएंगे ठेला,
कोई ऊंचा नहीं नीचा नहीं अच्छा है जी।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद पर यकीन करके
खुद पर यकीन करके
Dr fauzia Naseem shad
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
किराएदार
किराएदार
Satish Srijan
3291.*पूर्णिका*
3291.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
DrLakshman Jha Parimal
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*Author प्रणय प्रभात*
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
बेटियाँ
बेटियाँ
Surinder blackpen
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
Loading...