Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2021 · 1 min read

पंचशील गीत

पंचशील अपनाना ही,
जीवन सफल बनाना है,

पांच रंगों को जानना ही,
सुखमय खुद को बनाना है,

बुद्ध धम्म का है पंचशील,
मानव के कल्याण का बीज,

नीला रंग यह कहता है,
जीव हिंसा से विरत रहना है ,

पीला रंग ने सिखा दिया,
चोरी करना मना किया,

नारी का सम्मान करो,
लाल रंग का मान बढ़े,

श्वेत रंग की यह पहचान,
सदा सत्य हो वचन का ज्ञान,

नारंगी का अद्भुत पहचान,
नशा पदार्थ से दूर कराएं,

पालन इसको जो कर जाए,
बुद्ध धम्म के विचार पाए ।

9 Likes · 8 Comments · 716 Views
You may also like:
या अल्लाह या मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
संस्कार - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
आई रे दिवाली रे
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
*टिकट न मिलने का दुख (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
तू रूह में मेरी कुछ इस तरह समा रहा है।
Taj Mohammad
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
कहानी
Pakhi Jain
मैं उसकी ज़िद हूँ ...
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
💐💐परेसां न हो हश्र बहुत हसीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविता
Mahendra Narayan
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
"प्यारे मोहन"
पंकज कुमार कर्ण
✍️मसला तो ख़्वाब का है
'अशांत' शेखर
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Sahityapedia
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
अख़बार
आकाश महेशपुरी
मां
Dr. Rajeev Jain
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...