Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2021 · 1 min read

पंचशील गीत

पंचशील अपनाना ही,
जीवन सफल बनाना है,

पांँच रंगों को जानना ही,
सुखमय खुद को बनाना है,

बुद्ध धम्म का है पंचशील,
मानव के कल्याण का बीज,

नीला रंग यह कहता है,
जीव हिंसा से विरत रहना है ,

पीला रंग ने सिखा दिया,
चोरी करना मना किया,

नारी का सम्मान करो,
लाल रंग का मान बढ़े,

श्वेत रंग की यह पहचान,
सदा सत्य हो वचन का ज्ञान,

नारंगी का अद्भुत पहचान,
नशा पदार्थ से दूर कराएं,

पालन इसको जो कर जाए,
बुद्ध धम्म के विचार पाए ।

रचनाकार-
✍🏼 बुद्ध प्रकाश,
मौदहा तहसील,
जिला- हमीरपुर (उoप्रo)

12 Likes · 10 Comments · 1271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-234💐
💐प्रेम कौतुक-234💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
2586.पूर्णिका
2586.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
बादल  खुशबू फूल  हवा  में
बादल खुशबू फूल हवा में
shabina. Naaz
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
★ बचपन और बारिश...
★ बचपन और बारिश...
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
भोर
भोर
Omee Bhargava
Loading...