Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

पंचतत्व

धूमकेतु,धनरस,धरा,अंबर और बयार।
पंचतत्व के रूप में, ईश्वर का उपहार।।

पंचतत्व से है बना,जग के सकल पदार्थ।
भव बंधन को खोलता,परम पूण्य परमार्थ।।

पंचतत्व मिलकर बना,मनुज तूम्हारा देह।
पंचतत्व में मिल गया,इससे कैसा नेह।।

पंच तत्व में रम गया,तन के पाँचों गाँव।
मन मंदिर में ढ़ूँढ़ता,मिले कहीं तो ठाँव।।

वसुंधरा आकाश जल,पावक और समीर।
पंचतत्व का आजकल,हालत है गंभीर।।

पंचतत्व का सार ही,बना सृजन आधार।
असंतुलित हो एक भी,टूटे जीवन तार।।

पंचतत्व पावक,पवन,अवनि,अंबु, आकाश।
इससे ही पाता मनुज,पावन प्रखर प्रकाश।।

सृष्टि जनित पदार्थ का,होगा तभी वजूद।
अलग-अलग परिमाण में, पंचतत्व मौजूद।।

पंचतत्व का देह में,रहे उचित जब भाग।
रहता तन मन स्वस्थ तब, गाते सुख का राग।।

पंचतत्व को जानिये,और करें सम्मान।
इससे ही है जड़ जगत,और हमारी जान।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
2784. *पूर्णिका*
2784. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
मै भी हूं तन्हा,तुम भी हो तन्हा
मै भी हूं तन्हा,तुम भी हो तन्हा
Ram Krishan Rastogi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...