Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है

न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
रोटी कमाने में हुनर बड़ा काम आता है।
a m prahari

1 Like · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*प्रणय प्रभात*
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
"डीजे"
Dr. Kishan tandon kranti
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हरवंश हृदय
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
Paras Nath Jha
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
Loading...