Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

नौका को सिन्धु में उतारो

नौका को सिन्धु में उतारो
किनारों से दूर करो
जानना है यदि खुद को
तो खुद के निर्णय पर विश्वास करो
तुम ऊर्जा के पूंज हो
तुम ही आभा सूर्य हो
दो चुनौती अपने आप को
चलो आलास को त्याग दो
एक विफलता या सफलता पर
डर मत जाना ओर हर्ष मनाना मत
जीवन मंत्र यही है बस चलते जाना तुम
जब तक नौका सिन्धु में ना उतारोगे
कैसे कहो तुम खुद का बल जानोगे
इसलिए कहता हूं
नौका को सिन्धु में उतारो
किनारों से दूर करो
सुशील मिश्रा ‘क्षितिज राज ‘

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
जज़्बात - ए बया (कविता)
जज़्बात - ए बया (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
"सुनो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
😊 #आज_के_सवाल
😊 #आज_के_सवाल
*प्रणय प्रभात*
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोग कहते हैं कि
लोग कहते हैं कि
VINOD CHAUHAN
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2484.पूर्णिका
2484.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...