Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2022 · 1 min read

नौकरी (१)

माना कि वक्त हो गया है
दिल ये सख्त हो गया है
फिर भी तुमको चाहता है
गलत है क्या?

माना मेरे हक में अभी तूं नहीं
दिल मेरा अब दिमाग के वस नहीं
फिर भी तुमको चाहता है
इसमें तो कोई शक नहीं
ये भी गलत है क्या?

मानता हूँ मेरे पास आने से डरती है तूँ
दूर से देखकर फिर क्यूँ हंसती है तूँ
तेरी यादों के सपनों मे खो जाता हूँ मैं
तन्हा रातों में आँखों को भिगोता हूँ मैं
ये भी गलत है क्या?
©अभिषेक पांडेय अभि

31 Likes · 2 Comments · 431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
कृष्ण की राधा बावरी
कृष्ण की राधा बावरी
Mangilal 713
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
फितरत
फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
"नमक"
*प्रणय प्रभात*
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
एक दिन आना ही होगा🌹🙏
एक दिन आना ही होगा🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
वक्त की रेत
वक्त की रेत
Dr. Kishan tandon kranti
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कहर कुदरत का जारी है
कहर कुदरत का जारी है
Neeraj Mishra " नीर "
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
Loading...