Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

नौकरी

जहांँ आजाद उड़ता पंछी था,
जी रहा था अपने घर में,
आ गया हूँ करने नौकरी,
गुलामो के शहर में ।

ख्वाहिशें की बहुत थी,
करना है अब नौकरी,
बंदिशे चुन लिया है,
बड़े-बड़े महकमें में।

खुशियाँ खूब जताता हूँ,
खूब करूँगा नौकरी,
समय के पाबन्दी में बिक गई,
एक मुस्कान रह गई जिन्दगी।

झोली भरने चलें थे अपनी,
समर्पण से करके नौकरी,
जिन्दगी खुद की काट रहे,
अपनी कमाई को कहीं बाँट रहे।

नौकरी की तालीम ले कर,
आया जो करने नौकरी,
सुकून नहीं है पा ली अब ,
कोई छोटी-मोटी नौकरी ।

✍🏼✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर (उ0प्र0)

4 Likes · 4 Comments · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
Tu Mainu pyaar de
Tu Mainu pyaar de
Swami Ganganiya
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खिन्न हृदय
खिन्न हृदय
Dr.Pratibha Prakash
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
The Digi Begs [The Online Beggars]
The Digi Begs [The Online Beggars]
AJAY AMITABH SUMAN
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुख -दुख
सुख -दुख
Acharya Rama Nand Mandal
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
*Author प्रणय प्रभात*
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुख्तसर हयात है बाकी
मुख्तसर हयात है बाकी
shabina. Naaz
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन गति
जीवन गति
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"चलना सीखो"
Dr. Kishan tandon kranti
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
याद आती है
याद आती है
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...