Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

नैन खोल मेरी हाल देख मैया

तेरी शरणों में, हम आ गए हैं
नैन खोल, मेरी हाल, देख मैया।
कोई तेरे, सिबा ना सहारा
तू ही, जग की सहारा, हो मैया।।

मैं हुं पापी,अधम, अज्ञानी
एक ममतामई, तू भवानी।
तेरी दर्शन से पाप मिट जाए
मुझे दर्शन,दिखा दे मेरी मैया।।

खाली झोली है, मैं हु भिखारी
झोली भर दे, ओ माँ शेरावाली।
तेरी महिमा को हम, गाते आए
आज बनके, पुजारी हे मैया।।

जो चरण रज, लगाते तुम्हारी
कष्ट उनकी, मिट जाती सारी
नाम हर पल “बसंत” जप रहा है
थोड़ी जगह, शरण में दे मैया।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन:- जिंदगी एक किराए का घर है)

1 Like · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
💐प्रेम कौतुक-391💐
💐प्रेम कौतुक-391💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
Shashi kala vyas
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
यूनिवर्सिटी के गलियारे
यूनिवर्सिटी के गलियारे
Surinder blackpen
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
shabina. Naaz
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
बिना तुम्हारे
बिना तुम्हारे
Shyam Sundar Subramanian
2435.पूर्णिका
2435.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
Loading...