Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

नैनों की भाषा

मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे
मैंने तुमको समझाने कि लाख जतन किया
मोटी-मोटी ये किताबे को पढ़कर समझ लेते हो
पढ़-पढ़ के तुम तो साहब ही बन गए ।

मैं तुम्हें कैसे बताऊँ कि मुझे लाज आती है
मेरे दिल मे क्या है ये आंखे बताती है
नादान साजन तड़पे है मेरा जिया
मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

तुम मेरे करीब तो आओ और मुझसे यू नजरे तो मिलाओ
तुम मेरी नजर की बात को पढ़ के तो सुनाओ
तूने रपट लिखी है और मेरा दिल को ही चुरा लिया
मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

मेरा तन और मन तुम्हारा हुआ
मेरी ये काली जुलफ़े तो सिर्फ और सिर्फ ,
तुम्हारे लिए ही तो ये सवारां है
मेरा ये दिल तुमसे लगा के मैंने ये क्या किया

मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गहराई
गहराई
Dr. Rajiv
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा मुसाफिर
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
■ बिल्कुल ताज़ा...
■ बिल्कुल ताज़ा...
*Author प्रणय प्रभात*
एक फूल....
एक फूल....
Awadhesh Kumar Singh
गुलशन के गुल
गुलशन के गुल
Chunnu Lal Gupta
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
चोट शब्द की न जब सही जाए
चोट शब्द की न जब सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सचमुच सपेरा है
सचमुच सपेरा है
Dr. Sunita Singh
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
भूला नहीं हूँ मैं अभी
भूला नहीं हूँ मैं अभी
gurudeenverma198
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
यशोधरा
यशोधरा
Satish Srijan
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
Anil chobisa
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
💐प्रेम कौतुक-526💐
💐प्रेम कौतुक-526💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
अभी गहन है रात.......
अभी गहन है रात.......
Parvat Singh Rajput
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
आज़ाद पंछी
आज़ाद पंछी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
Prabhu Nath Chaturvedi
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
*भले कितनी हो लंबी रात,दिन फिर भी निकलता है 【मुक्तक】*
*भले कितनी हो लंबी रात,दिन फिर भी निकलता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
Loading...