Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

नैनों की भाषा

मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे
मैंने तुमको समझाने कि लाख जतन किया
मोटी-मोटी ये किताबे को पढ़कर समझ लेते हो
पढ़-पढ़ के तुम तो साहब ही बन गए ।

मैं तुम्हें कैसे बताऊँ कि मुझे लाज आती है
मेरे दिल मे क्या है ये आंखे बताती है
नादान साजन तड़पे है मेरा जिया
मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

तुम मेरे करीब तो आओ और मुझसे यू नजरे तो मिलाओ
तुम मेरी नजर की बात को पढ़ के तो सुनाओ
तूने रपट लिखी है और मेरा दिल को ही चुरा लिया
मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

मेरा तन और मन तुम्हारा हुआ
मेरी ये काली जुलफ़े तो सिर्फ और सिर्फ ,
तुम्हारे लिए ही तो ये सवारां है
मेरा ये दिल तुमसे लगा के मैंने ये क्या किया

मेरे नैनो की भाषा को तुम कभी न समझे

210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
माटी तेल कपास की...
माटी तेल कपास की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
पूर्वार्थ
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
खामोश रहना ही जिंदगी के
खामोश रहना ही जिंदगी के
ओनिका सेतिया 'अनु '
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
👌ग़ज़ल :--
👌ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
संक्रांति
संक्रांति
Harish Chandra Pande
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
नादान प्रेम
नादान प्रेम
अनिल "आदर्श"
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"वो जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...