Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2023 · 1 min read

*नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)*

नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️
1
नृप दशरथ चिंता में आए।
सिर के बाल श्वेत जब पाए।।
सोचा राजा राम बनाऊॅं ।
मुक्त भार से यों हो जाऊॅं ।।
2
मुनि वशिष्ठ को बात बताई ।
हर्षित दशा राजमुनि पाई ।।
शुभ मुहूर्त की देर न करना।
मुनि ने कहा तीव्र पग धरना ।।
3
सब तीरथ के जल मॅंगवाए ।
भॉंति-भॉंति के साज सजाए।।
नगर अयोध्या खुशियॉं छाईं।
किंतु राम के मन कब भाईं।।
4
कहा चार हैं जब हम भ्राता ।
बड़ा एक ही पद क्यों पाता ।।
कुटिल मंथरा ने विष डाला ।
बीज बैर का मन में पाला ।।
5
कैकेई को पाठ पढ़ाया ।
सगा और सौतेला आया ।।
कहा कुटिल कौशल्या रानी ।
तुम सीधी वह बड़ी सयानी ।।
6
लिखा भाग्य में पद अब दासी।
आजीवन अब सिर्फ उदासी ।।
बात मंथरा की मन भाई ।
हृदय कुटिलता की छवि छाई।।
7
कोप-भवन में रंग दिखाया ।
नृप तब उसे मनाने आया ।।
दो वर मॉंगे बहुत पुराने।
तीर साध कर चले निशाने ।।
8
पुत्र भरत पद राजा पाऍं ।
चौदह बरस राम वन जाऍं ।।
दशा बिना मछली ज्यों पानी ।
नृप ने मृत्यु निकट निज मानी।।
9
किंतु राम ने दुख कब पाया ।
कहा पिता से पद सब माया ।।
वन में मुनिगण बहुत मिलेंगे।
सद्विचार के सुमन खिलेंगे ।।
10
आज्ञा दें मैं वचन निभाऊॅं।
बन सुपुत्र हर्षित वन जाऊॅं ।।
धन्य राम तुम प्रभु अवतारी।
अनासक्त सद्बुद्धि तुम्हारी।।
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

493 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दहेज की जरूरत नहीं
दहेज की जरूरत नहीं
भरत कुमार सोलंकी
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
gurudeenverma198
बेटा
बेटा
Neeraj Agarwal
*सर्वप्रिय मुकेश कुमार जी*
*सर्वप्रिय मुकेश कुमार जी*
Ravi Prakash
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"रातरानी"
Ekta chitrangini
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
*प्रणय प्रभात*
47.....22 22 22 22 22 22
47.....22 22 22 22 22 22
sushil yadav
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"पनाहों में"
Dr. Kishan tandon kranti
नानी का घर
नानी का घर
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
मुक्तक -*
मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...