Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

निर्मल निर्मला

गौर से देखा जब भी उसकी ओर खामोश नजरें बया अंदाज़ ख़ास।।

नादाँ मुस्कान जहाँ की इनायत का पैगाम !!

गौर से देखा उसकी ओर सुबह सुर्ख लाली खूबसूरत जहाँ की मुस्कान !!

देखा गौर से उसकी ओर चाँद की चांदनी अप्सरा ज़माने की तमाम चाहतों की चाह की राह !!

देखा गौर से उसकी ओर सांसे धड़कनों का जहाँ में वजूद का एहसास !!

देखा गौर से उसकी ओर भोली , कमसिन नाज़ुक की नाज़ !!

देखा गौर से उसकी ओर कभी हवाओं के झोको में विखरी जुल्फों में रोशन चेहरे का सबाब !!

गौर से देखा उसकी ओर लवो की मुस्कान खामोश जुबान बोलती बाला हूँ हाला मधुशाला हूँ, जिंदगी की जमीं आसमान के परिंदों की परी हूँ !!

देखा उसकी ओर गौर से हिम्मत हौसलों की उड़ान नन्ही सी जान जहाँ के बुनियाद की ईमान।।

औरत, नारी ज़माने की जान अभिमान स्वाभिमान प्यार परिवरिश का दामन आँचल की मर्यादा मान !!

Language: Hindi
1 Like · 18 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
* चाहतों में *
* चाहतों में *
surenderpal vaidya
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
"दुखती रग.." हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
ग्रन्थ
ग्रन्थ
Satish Srijan
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2603.पूर्णिका
2603.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#एक_सराहनीय_पहल
#एक_सराहनीय_पहल
*प्रणय प्रभात*
#उलझन
#उलझन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
Loading...