Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

निराली है तेरी छवि हे कन्हाई

निराली है तेरी छवि हे कन्हाई

निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
वंशी की धुन हमें दे सुनाई

हे नंदनंदन हे मुरलीधर
हम तुम पर जाएँ बलिहारी

केवट बना हमें पार उतारो
चरणों की प्रभु धूलि बना लो

हम बालक नादान हैं मोहन
संकट के प्रभु बादल हर लो

तेरे चरणों से प्रीती हमको
गिरधर पावन कर दो हमको

निर्धन को प्रभु धन का वर दो
हे मोहन भक्ति का रस दो

ज़र्ज़र होती काया मेरी
सुधि ले लो मनमोहन मेरी

मुश्किल की है घड़ी है आई
तन में प्राण नहीं रे कन्हाई

दुर्बलता से मुक्ति दे दो
मन को मेरे पावन कर दो

अपने दरश दिखा दो मुझको
हे बरसाने के कृष्ण मुरारी

जब प्राण तन से निकलें
तुम पास हो मुरारी

मोहित हो गया हूँ मैं
तेरी मनमोहक छवि पर

सुद्बुध मेरी बिसरी
तुझे अपने करीब पाकर

मुझे मिल गया किनारा
मोक्ष की घड़ी है आई

निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
वंशी की धुन हमें दे सुनाई

1 Like · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
2552.*पूर्णिका**कामयाबी का स्वाद चखो*
2552.*पूर्णिका**कामयाबी का स्वाद चखो*
Dr.Khedu Bharti
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
Kuldeep mishra (KD)
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
यही बताती है रामायण
यही बताती है रामायण
*Author प्रणय प्रभात*
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-479💐
💐प्रेम कौतुक-479💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
कवि दीपक बवेजा
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
Loading...