Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

*निराकार भाव* (घनाक्षरी)

निराकार भाव (घनाक्षरी)
————————————–
भाता है जो मिला निराकार भाव जीवन में
अब न अभाव का प्रभाव कुछ आता है
आता है समझ यही उचित जो हो रहा है
बुद्धि को न मन यह भ्रम में लगाता है
गाता है कृपा जो मिली नभ-सी असीम वाली
मस्तक हो नत बार-बार झुक जाता है
जाता है न लघु के आकार की शरण में ये
काल-महाकाल भाव इसको लुभाता है
—————————————
(उपरोक्त रचना सिंह विलोकित छंद में है।
(1)इसमें प्रथम पंक्ति का प्रथम शब्द ही आखिरी पंक्ति का आखिरी शब्द है।
(2) प्रत्येक पंक्ति का अन्तिम शब्द अगली पंक्ति का पहला शब्द है)
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ज़िंदगी इम्तिहान
ज़िंदगी इम्तिहान
Dr fauzia Naseem shad
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
Ravi Prakash
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
VINOD CHAUHAN
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
*सुविचरण*
*सुविचरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
3163.*पूर्णिका*
3163.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
आसान नहीं होता...
आसान नहीं होता...
Dr. Seema Varma
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
* चाहतों में *
* चाहतों में *
surenderpal vaidya
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...