Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

* नियम *

dr arun kumar shastri – ek abodh balak – arun atript

* नियम *

मैं अमूमन सड़क
के दायें ओर
चला करता हूँ ।
ऐसा नहीं है
कि मुझे देश
के सामान्य
नियमों से गुरेज़ है
पर पीछे से न कोई
ठोक दे ऐसा मैं इस
वजहों से सावधानी
वश करता हुँ।
यूँ तो कोई सामने से
नहीं ठोकेगा इसकी
क्या गारंटी
पर मैं व्यक्तिगत
तौर पे पीठ पर
वार करने वाले
कायरों को मौका
न मिले इस लिये
करता हूँ
करना हो तो सामने से
वार करो अरे इन्सान हो
इंसानियत का
व्यव्हार करो ठोकना है
तो सामने से ठोको
वरना प्यार yes प्यार
सरे आम करो 🤣🤣

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
मजदूरों से पूछिए,
मजदूरों से पूछिए,
sushil sarna
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
♥️
♥️
Vandna thakur
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
Loading...