Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

नियम पुराना

हर मानव अथक प्रयासों से, कर लेता हासिल मनचाहा आयाम।
अपनी ख्वाहिशों को देने लगता है, गगन जैसे असीमित मुकाम।
महफ़िलों की शान बन जाता, जहाॅं रोज़ छलकते जीत के जाम।
वो अकेला पड़ता सब पे भारी, विफल होते जाएं षड्यंत्र तमाम।
सफलता की खुशी रहे एक-सी, पर बदलते रहते हैं इसके नाम।

जीत, सफलता व प्रगति से ही, लगे लोगों की बातों पर लगाम।
यदि आप दृढ़-निश्चय कर लें तो, मार्ग में बाधक न बनें अंजाम।
ये दुनिया भले तंज कस रही, यही कल करेगी प्रशंसा सरेआम।
विजेता के जीवन की हर सुबह गुलज़ार, चैन से गुज़रे हर शाम।
सफलता की खुशी रहे एक-सी, पर बदलते रहते हैं इसके नाम।

अपने मन के दृढ़ संकल्प से, ऊॅंचे-दुर्गम शिखर पे चढ़ते जाना।
कभी गहराइयों को चीरते हुए, समुद्र की तली तक उतर जाना।
हर प्रतियोगिता व अवसर पर, विजेता के पदक जीत ले आना।
हार पर बरसाए गए पत्थरों से, जीत की मज़बूत दीवार बनाना।
हार से पहले हो अंतिम प्रहार, ये है सफलता का नियम पुराना।

साहित्यिक व सांस्कृतिक गतिविधि में, अच्छा प्रदर्शन दे पाना।
अपने अर्जित ज्ञान की मदद से, हर परीक्षा में सफल हो जाना।
हौंसलों की मशाल थामकर, असंभव कार्य भी संभव करवाना।
बंदिशों के पिंजरा को गिराकर, ऊॅंचे नभ में करतब दिखलाना।
हार से पहले हो अंतिम प्रहार, ये है सफलता का नियम पुराना।

Language: Hindi
5 Likes · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
शेखर सिंह
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
Shweta Soni
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...