Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 1 min read

निज कर्म

कर्तव्य(कर्म)पर हमारी आज की रचना कुछ इस तरह देखिए……

निज-कर्म

करो नित काम मिले तब दाम
बने सब काम जपो प्रभु नाम
तभी सुख चैन यही सत मान
बड़े मुख बोल बने वो महान

कर्म की सीख कभी नही भीख
बड़े बो लोग बड़े संयोग
कभी संयोग कभी तो वियोग
समय को साध सदा शुभ योग

कर्म को काट कर्म से वाट
सही जो कथ्य तभी तो तथ्य
पुण्य के काम मिले सुखधाम
कर्म जो सत्य बने तब पथ्य

कर्म से फल कर्म से हल
कर्म सबल कभी न विफल
कर्म से इच्छा समझो भिक्षा
कर्म सुरक्षा कर्म ही शिक्षा

कर्म ही करतव अच्छा मनतव
मिलता सुख तव कर्म से रव तव
कर्म से उठते कर्म से गिरते
‘अनेकांत’ निज कर्म समझते

राजेन्द्र’अनेकांत’
बालाघाट दि.०३-०२-१७

Language: Hindi
434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
पूर्वार्थ
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-332💐
💐प्रेम कौतुक-332💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"गुलाम है आधी आबादी"
Dr. Kishan tandon kranti
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
होके रहेगा इंक़लाब
होके रहेगा इंक़लाब
Shekhar Chandra Mitra
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
Taj Mohammad
Loading...