Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ

ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
कर्म ही बड़ा है इसीलिए,मैं बस काम जानता हूँ

धर्म मजहब के नाम पर, सदाचार खो रहे हो
जानते हो पर शिक्षा का, बस व्यवहार खो रहे हो
जिसको मिला भगवान, नहीं एक नाम जानता हूँ
कर्म ही बड़ा है…………

सत्ता का है सब खेल, देखो मंदिर बनवा रहे
समझते हो भला क्यों नहीं, विद्यालय खुलवा रहे
शिक्षित भी हैं जब मूक, मैं तो अज्ञान मानता हूँ
कर्म ही बड़ा है………….

जाकर किसी फकीर को, लकीर मत दिखा
मत बैठ भरोसे भाग्य के, मिले दो हाथ हैं कमा
जिसने किया है कर्म, मिली पहचान जानता हूँ
कर्म ही बड़ा है……………

लेकर गुरू से ज्ञान तुम, तकदीर बना लो
अंधकार को मिटा हृदय में, ज्योति जला लो
होंगे तब ही पूरे सभी, तेरे अरमान मानता हूँ
कर्म ही बड़ा है……………

जागे बिना इंसान के भी, हल न निकलेगा
“V9द” कितनी सीख दे, पर कुछ न बदलेगा
देना होगा हर एक जगह, इम्तिहान जानता हूँ
कर्म ही बड़ा है…………….

स्वरचित
V9द चौहान

2 Likes · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
gurudeenverma198
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
O God, I'm Your Son
O God, I'm Your Son
VINOD CHAUHAN
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
कोना मेरे नाम का
कोना मेरे नाम का
Dr.Priya Soni Khare
59...
59...
sushil yadav
अन्तर मन में उबल रही  है, हर गली गली की ज्वाला ,
अन्तर मन में उबल रही है, हर गली गली की ज्वाला ,
Neelofar Khan
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
Chunnu Lal Gupta
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
वह
वह
Lalit Singh thakur
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
कविता
कविता
Shiva Awasthi
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
Loading...