Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

ना जाने क्यों…?

ना जाने क्यूं…?

मन खोया सा जा रहा,
आंखों के आगे अंधेरा छा रहा,
कर रहा कोशिश बहुत,
पर मैं होश खोता जा रहा…।

मन मेरा चंचल सा होकर,
रुक सा ना रहा,
ध्यान लगना तो दूर बहुत,
हर काम में यूं ही लड़खड़ा रहा।

मन मेरा न जाने क्यूं,
बेवजह घबरा रहा,
सोचा था संभाल लूंगा खुद को,
पर अब हौसला डगमगा रहा।

ये तो भगवान का सहारा है,
जो अपनी नैया चला रहा,
सच तो यही है,
वो ही मुझे पार करवा रहा…!

3 Likes · 1 Comment · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
हम कहां तुम से
हम कहां तुम से
Dr fauzia Naseem shad
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
sushil sarna
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
न किसी से कुछ कहूँ
न किसी से कुछ कहूँ
ruby kumari
मुश्किलें
मुश्किलें
Sonam Puneet Dubey
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*चरखा (बाल कविता)*
*चरखा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टीस
टीस
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
गाए जा, अरी बुलबुल
गाए जा, अरी बुलबुल
Shekhar Chandra Mitra
अमीरों की गलियों में
अमीरों की गलियों में
gurudeenverma198
Loading...