Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

नारी शक्ति

?????
श्रेष्ठतम संस्कारों से परिष्कृत है नारी।
सतत् जाग्रत और सहज समर्पित है नारी।
?
जीवन-शक्ति की संरचना करने वाली है नारी।
आदिरूपा,आदिशक्ति,महामाया,काली है नारी।
?
विश्व ब्रह्मांड में जीवन सत्ता का आधार है नारी।
सभ्यता और संस्कृति का निखार है नारी।
?
पावन परम्पराओं से प्रतिबद्ध है नारी।
सावित्री,सीता,अग्नि सी शुद्ध है नारी।
?
जीवनदायिनी, ब्रह्मचेतना स्वरूप है नारी।
वेदमाता,देवमाता, विश्वमाता, का रूप है नारी।
?
अपने कर्तव्य के प्रति संवेदनशील है नारी।
जीवन के हर क्षेत्र में प्रगतिशील है नारी।
?
नफरत भभरी इस दुनिया में प्यार है नारी।
माँ, पत्नी, बहन, बेटी का दुलार है नारी।
?
गृहणी, गृहस्वामिनी तथा गृहलक्ष्मी है नारी।
दुर्गा,रति,सती, पार्वती व सरस्वती है नारी।
?
भेदभाव के दंश को झेलती
प्रगति पथ पर अग्रसर है नारी।
पहुंच चूकी है एवरेस्ट और चाँद पर नारी।
?
मृत्यु को झुका कर पुरस्कृत है नारी।
सत्यम्,शिवम् व सुन्दरम् से अलंकृत है नारी।
?
हर क्षेत्र हर दिशा में मर्दों के संग है नारी।
अर्धनारीश्वर रूप में शिव का आधा अंग है नारी।
?
अबला नहीं सबला है आज की नारी।
हर जंजीरों को तोड़ आगे बढ़ चली नारी।
?
राजनीति से लेकर सर्विस सेवा तक नारी।
अब जाने लगी श्मशान घाट तक नारी।
?
घर-बाहर सम्हालती दोधारी तलवार है नारी।
समाजिक हर एक कार्य में भागीदार है नारी।
?
अनबुझ, अनोखा, जीवन साध्य है नारी।
युगों-युगों से हर युग में आराध्य है नारी।
?????—लक्ष्मी सिंह ??

1522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दोहा पंचक. . . . . दम्भ
दोहा पंचक. . . . . दम्भ
sushil sarna
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
Suryakant Dwivedi
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
🙅आज है दो जून🙅
🙅आज है दो जून🙅
*प्रणय प्रभात*
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
आज़ के रिश्ते.........
आज़ के रिश्ते.........
Sonam Puneet Dubey
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्यार का गीत
प्यार का गीत
Neelam Sharma
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
Ravi Prakash
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
Loading...