Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

नारी

इस धरती पर लाती हमें,
प्यार और ममता लुटाती है,
सारे गम सहकर सुख देती,
वह महिला कहलाती है।।
अपने आँचल में पाल पोसकर,
जीने की राह बताती है,
अपने सपनों को छोड़,
हमारे अरमानों को सजाती है।।
माँ,बेटी,बहन,बुआ,दादी
और नानी कहलाती है,
इस जग में नारी ही तो,
ममतामयी कहलाती है।।
नारी अपनी शक्ति से,
ज़ुल्मो-सितम सहती है,
फिर भी यह दुनिया,
नारी को हीन बताती है।।
जहाँ नारी की पूजा होती,
वहाँ देवता रहते है,
नारी के सम्मान से ही तो
सब संकट मिट जाते है।।

1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
Karma
Karma
R. H. SRIDEVI
■ सर्वाधिक चोरी शब्द, भाव और चिंतन की होती है दुनिया में। हम
■ सर्वाधिक चोरी शब्द, भाव और चिंतन की होती है दुनिया में। हम
*प्रणय प्रभात*
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
शिव प्रताप लोधी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
Keshav kishor Kumar
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
2675.*पूर्णिका*
2675.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
*देखो मन में हलचल लेकर*
*देखो मन में हलचल लेकर*
Dr. Priya Gupta
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
परम लक्ष्य
परम लक्ष्य
Dr. Upasana Pandey
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वरदान
वरदान
पंकज कुमार कर्ण
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
समय
समय
Swami Ganganiya
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
Loading...