Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

नारी अस्मिता

मन उपवन की नन्ही कली,
जो घर आंगन में पली-बढ़ी,

फूल से चेहरे पर खिली उसकी मुस्कान,
माता पिता, बंधु बांधव, मित्रों की जान,

सदा निस्वार्थ सेवा, सहायता को तत्पर,
सरल, सहृदय, समभाव से अग्रसर,

व्यवहारिकता, बुद्धिमता, प्रज्ञा शक्ति की खान,
बड़े बूढ़ों का सत्कार कर रखे उनका मान,

कभी रूठती तो लगता ईश्वर रूठ गए,
कभी हंसती तो लगता फूल झर रहे,

मधुर मोहनी, चपल षोडशी, चंचल चितवन,
अपनी मधुर वाणी गान से मोहती सबका मन,

आत्मविश्वास, साहस, एवं धैर्य की प्रतिमूर्ति,
दृढ़ संकल्प, त्याग, एवं संघर्ष की नारी शक्ति,

क्योंकर बनी उपेक्षित अधिकार विहीन
पुरुष प्रधान जगत में?
क्योंकर बाध्य हुई सुलह करने अपने
रिश्तो के हक में?

जब तक ये समाज नारी के प्रति अपनी
सोच ना बदल पाएगा,
तब तक नारी को उसके न्यायोचित अधिकार से वंचित रखा जाएगा।

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
दीपावली
दीपावली
Neeraj Agarwal
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
शेखर सिंह
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
Ravi Prakash
#झांसों_से_बचें
#झांसों_से_बचें
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
Loading...