Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 2 min read

नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏

नारी शक्ति का करो सम्मान
भारत देश बने महान 🇮🇳
🍀☘️🌿☘️☘️☘️☘️
मातृशक्ति पर करो अभिमान
यही हमारी संस्कृति पहचान

लाचारी पग रोक रही थी
पर तुफानों में चल रही थी

किस्ती संभाल घर की नारी
चारों ओर फिरंगी कहर भारी

छिप प्राण बचा रही थी बेचारी
पग पग खड़ी फिरंगी निगरानी

पग बंधी परतंत्रता की बेड़ी से
अभिव्यक्ति मुंह पर दबी पड़़ी

पग पग खडी थी फिरंगी काया
दबा रही भारत की मोह माया

झांक रहा था नारी काआंगना
क्रूर क्रूरता से दबी थी बेचारी

भाव भावना दूर खड़ी देख रही
हतप्रस्त लाचारी घर की बेचारी

माता के जिगर पर क्षण क्षण थी
क्रूरता वाणी और घात कुठारी

अमन सुख छीनती देख रही थी
लाचार विवश पड़़ी अवला नारी

जीवन पथ रक्षक मौन खड़ा था
उज्जवल भविष्य पाश से बंधा

कब हर्षित होगी नारी बेचारी
परतंत्रता की बेड़ी जकड़ रही

प्रीत प्रतिज्ञा आस पास छोड़
जंजीर तोड़ने की ताक में नारी

आओ चलें पर कहाँ चले सोच
अकेली आँसू बहा रही लाचारी

मेंहदी की रंग मिट रही थी पर
हाथ कफ़न लिए खडी बेचारी

तभी स्वतंत्रता की सुलगी आग
कूद पड़े थे भारत नर-नारी

संगीनों की नोंकों पर उछाल रही
गद्दारों को सीख सिखा रही थी

भारत माता की याद दिला रही
उठा भाला तलवार कुठार आज

भागो फिरंगी छोड़ो देश आजादी
हमारा है जन्मसिद्ध अधिकार

नारी की हुंकार सुन जग उठे थे
सकल गाँव नगर पूरा हिन्दुस्तान

खाली किया देश देशी गद्दारों से
छीनी आज़ादी फिरंगी बेईमानों से

भारत वीर सबला मर्दानी नारी
कैसे भूलूं और भूलाने दूँ भारत

वीर वीरांगनाओं की मर्दानी को
सत् सत नमन करता हूं गर्व से
भारत की मातृ नारी शक्ति को
🌹🌹🌹🌹🍀🌿🌹🌹
टी . पी . तरुण

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
Sometimes he looks me
Sometimes he looks me
Sakshi Tripathi
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
जिंदगी का कागज...
जिंदगी का कागज...
Madhuri mahakash
बुंदेली दोहे- रमतूला
बुंदेली दोहे- रमतूला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
ऑन लाइन पेमेंट
ऑन लाइन पेमेंट
Satish Srijan
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ
माँ
The_dk_poetry
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...