Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 2 min read

नारी बिन नर अधूरा✍️

नारी बिन नर अधूरा
मानते जग सारा ✍️
🌷🌷❤️🌷🌷🙏
नारी बिन नर अधूरा
दोनों बिन जग अधूरा

चालक एक जग सहारा
जग कर्ता एक जग भर्ता

नारी में नर का है प्राण
नर में नारी का ही सांस

दोनों जग का अभिमान
दोनों में दोनों एक नाम

आदम हव्वा है नर नारी
सृष्टि संस्कार ज्ञान दे सारी

कुदरत प्रकृति का फिदरत
प्रकृति दिव्य आराध्य नारी

नर नारायणी संगम नारी
अर्द्धनागेश्वर ही अर्द्धनारी

एकल आत्मा द्वितन वासी
शांति शौर्य शक्ति भण्डारी

करुणा दया सर्मण भारी
मधु मिठास अमृत वाणी

पालक जग पातक नाशक
ज्ञान कल्याण गीता सार

वक्त की चाल नारी का मन
फिसल लुढ़क बढ़ता जाता

प्रेम कारवां में चलता जाता
खुशी से बेहतर जिंदगी होती

नर नारी जब निज जीवन में
औरों खुशी की वजह बनती

झूम नाच मधु मिठास बांटती
तब जिंदगी इनकी बेहतर से

बेहतरीन प्रेरणामयी हो जाती
माधुर्य सुधा नयनों की सुवर्ण

मुख जीभ बल भुज बढ़ जाती
नर नारायणी रूप निखरती

कायरता दुर्बल प्रेम हटाती
बलशाली नर पिशाच प्रेमी

वासना तांडव भस्म करती
जीवन आधिकार दिलाती

दुःख में नारी नव सुख नारी
संघर्ष टूटे पतझड़ नर तन में

नारी सानिध्य हरयाली डाली
चंचल मन श्रृंगारिक नर नारी

पल रुधिर मलीन लाली नयनी
आंख आग विक्राली महाकाली

क्षण शीतल वर्फ की फुहारी
नभ अधर ओठ चंद्र चमक से

नारी रूप निखरती जग सारी
नर नारी प्रेम प्रकृति की डाली

नर नारायणी रूप जग निराली
नर बिन नारयणी खाली नारी
बिन नर सूखी प्रकृति की पाती

एकल आत्मा द्वितन अविनाशी
सकल जहान की प्यारी नर नारी

सदा सम्मानीय जग औरत सारी
देश अभिमान शान है नर नारी ।

🌿🌿🌷❤️💙🌷🌿🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
#जी_का_जंजाल
#जी_का_जंजाल
*Author प्रणय प्रभात*
हर-सम्त शोर है बरपा,
हर-सम्त शोर है बरपा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
शेखर सिंह
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
नए सफर पर चलते है।
नए सफर पर चलते है।
Taj Mohammad
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुत्ते की व्यथा
कुत्ते की व्यथा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
"अंगूर"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
मीडिया पर व्यंग्य
मीडिया पर व्यंग्य
Mahender Singh
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
Ravi Prakash
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
Loading...