Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

नारी तेरे रूप अनेक

अलग अलग रूपों में नारी, इस जग में, अवतारी जाती है।
किसी रूप में पूजी जाती है, किसी रूप में प्रताड़ी जाती है।।
परिजनों के बीच में नारी माँ बेटी बहन और पत्नी रूप में आती है।
घर भर की खुशियों का बीड़ा नारी अपने हर रूप में देखो उठाती है।।
बेटी के रूप पैदा होकर नारी जब अपने मात पिता को सम्मान पहुँचाती है।
बहन रूप में भ्राता प्रिय बनकर वो अपने सब नख़रे अपने भाईयों से उठवाती है।।
विवाह वेदी पर लेकर फेरे जो अपने पिता के घर को छोड़ पति संग जाती है।
फिर वो जीवन भर ससुराल में रहकर अपना पत्नी धर्म निभाती है।।
माँ का रूप पाने की ख़ातिर नारी अपने शरीर से अपने अंश का जन्म कराती है।
अपने इन चारों रूप में नारी जन्म लेने से जन्म देने तक का दायित्व निभाती है।।
इसके अतिरिक्त हर घर में नारी अन्नपूर्णा रूप में भोजन का प्रबंध भी करती है।
और अपनी व्यंजन कला के माध्यम से अपने परिवार का ध्यान भी रखती है।।
बच्चों को स्वावलंबी जागरूक संस्कारी और आत्म निर्भर भी वही बनती है।
कहते हैं नारी से घर बनता है और नारी के बिना हर घर बस चारदीवारी है।।
कहे विजय बिजनौरी नारी को समझने वाला पुरुष बड़ा भाग्यशाली होता है।
लाख जतन करता है फिर भी कोई मनुष्य एक जन्म में समझ नहीं पाता है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
अमेठी के दंगल में शायद ऐन वक्त पर फटेगा पोस्टर और निकलेगा
अमेठी के दंगल में शायद ऐन वक्त पर फटेगा पोस्टर और निकलेगा "ज़
*प्रणय प्रभात*
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुद्दतों से तेरी आदत नहीं रही मुझको
मुद्दतों से तेरी आदत नहीं रही मुझको
Shweta Soni
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
यलग़ार
यलग़ार
Shekhar Chandra Mitra
*जंगल की आग*
*जंगल की आग*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
Love ❤
Love ❤
HEBA
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोहा
दोहा
sushil sarna
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
पल
पल
Sangeeta Beniwal
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
Aadarsh Dubey
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
Loading...