Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

“नारी जब माँ से काली बनी”

नारी जब माँ से काली बनीं तब देवी कहलाईं,
देवी का रूप धरीं ,सृष्टि ही रच डालीं।

माँ ने नौ रूप धरे नवदुर्गा कहलाईं,
नारी ही देवी बन शक्ति स्वरूपा कहलाईं।

नारी को घर वर देने वाली देवी गौरी कहलाई,
स्नेह वात्सल्य ,ममता रूप में देवी शीतला कहलाईं।

जीवन के पालन में अन्न रूप में देवी अन्नपूर्णा कहलाईं,
लोक लाज के रूप में ,देवी सीता कहलाई।

धन दौलत आभूषण के रूप में देवी लक्ष्मी कहलाई,
प्रेम ,समर्पण के रूप में देवी राधा कहलाई।

नारी बनी जब जन्मदायनी तब वो माँ कहलाई,
भाई की रक्षा की कामिनी तब वो बहन कहलाई।

नौ रूपों मे होता कन्या पूजन वो बेटी कहलाईं,
जीवन भर संग चलने वाली वो पत्नी कहलाई।

जो सब कष्टो को सहीं वो धरती कहलाईं,
जब नारी माँ से देवी बनी तब काली कहलाईं।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

Language: Hindi
3 Likes · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
"जुल्मो-सितम"
Dr. Kishan tandon kranti
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
विपक्ष आत्मघाती है
विपक्ष आत्मघाती है
Shekhar Chandra Mitra
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
मन
मन
Ajay Mishra
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
Loading...