Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

नारी गरिमा

“नारी-गरिमा”
—————-

सोचती हूँ !
जब भी मैं !
एकांत में…….
निर्निमेष होकर
कि आखिर कौन हूँ मैं ?
जो सहती रहती हूँ !
अपने ही तन-मन पर !
कभी अन्याय !
तो कभी शोषण !!
कभी वेदना !
तो कभी दर्द !!
आखिर मुझमें भी है,
गरिमा !!
वह गरिमा !
जो सदियों से मैंने
खुद बनाई है !!
बनाया है मैंने
अपना इतिहास !
और अपनी सभ्यता !
जिस पर नर ही
एकाधिकार रखने लगा है |
तार-तार करता है
मेरी मर्यादा और
मेरी गरिमा को !!
सो नहीं पाती हूँ !
अक्सर रातों को !
जब समझता नहीं कोई ?
मेरे सूक्ष्म जज्बातों को !!
मैं कोसती हूँ !
खुद को
और खुदा को !
आखिर दोष क्या है मेरा ?
यहीं कि – मैं नारी हूँ !!
पर क्यों भूल जाते हैं वो ?
कि मैं ही जीवन-संचारी हूँ ||
मैं सृष्टि………
रखती हूँ दृष्टि !
अपनी ही गरिमा पर !
फिर भी अमानुष
नित्य ढ़हाते रहें हैं !
मेरी इस गरिमा के
हिमालय को !!!
जो कि अटल है !
और मेरा पटल है ||
——————————
– डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
768 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
*खिलती उसकी जिंदगी , पाई जिसने हार (कुंडलिया)*
*खिलती उसकी जिंदगी , पाई जिसने हार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
gurudeenverma198
सुकून
सुकून
Er. Sanjay Shrivastava
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
sushil sarna
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तोड़ न कोई राम का, निर्विकल्प हैं राम।
तोड़ न कोई राम का, निर्विकल्प हैं राम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
सूखा पत्ता
सूखा पत्ता
Dr Nisha nandini Bhartiya
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
Shweta Soni
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
"विकृति"
Dr. Kishan tandon kranti
संत गाडगे संदेश
संत गाडगे संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
💐प्रेम कौतुक-185💐
💐प्रेम कौतुक-185💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...