Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

*नारी का सम्मान*

नारी का सम्मान करो
भूल से न अपमान करो
मन से समझो इसको तुम
मुख से मत गुणगान करो
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
204 Views
You may also like:
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
यादें
kausikigupta315
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन पथ प्रदर्शक- हनुमान जी
Santosh Shrivastava
मेरा संघर्ष
Anamika Singh
मुख़ौटा_ओढ़कर
N.ksahu0007@writer
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यारी
अमरेश मिश्र 'सरल'
कैसा नया साल?
Shekhar Chandra Mitra
“ हमारा फेसबूक और हमरा टाइमलाइन ”
DrLakshman Jha Parimal
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*षड्यंत्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️हम हादसों का शिकार थे
'अशांत' शेखर
हमको तेरे ख़्याल ने
Dr fauzia Naseem shad
वात्सल्य का शजर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
ये कुछ सवाल है
gurudeenverma198
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
हंसने की वजह हम थे।
Taj Mohammad
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने...
Pravesh Shinde
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
उम्मीद की किरण
shabina. Naaz
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
है श्रेष्ट रक्तदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Loading...