Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

*नारी का सम्मान*

नारी का सम्मान करो
भूल से न अपमान करो
मन से समझो इसको तुम
मुख से मत गुणगान करो
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#काकोरी_दिवस_आज
#काकोरी_दिवस_आज
*Author प्रणय प्रभात*
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
सत्य कुमार प्रेमी
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Mathematics Introduction .
Mathematics Introduction .
Nishant prakhar
कैसे- कैसे नींद में,
कैसे- कैसे नींद में,
sushil sarna
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
ये आँखों से बहते अश्क़
ये आँखों से बहते अश्क़
'अशांत' शेखर
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...