Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

” नारी का दुख भरा जीवन “

पुर्व काल हो या आधुनिक काल, नारी का श्रापित जीवन
गर्भ में बेटा या बेटी, पहले से जांच कराई जाती रहीं

है कोख में लड़की जान, भ्रूणहत्या ही परिणाम आती है।
कोख में मार दी जाति है बेटियां।

बेटी जो नन्हीं कली-सी, प्रेम जाल- बलात्कार ,
बाल विवाह का शोषण झेलती रही ।

जाने कितनी कुप्रथायें, नारी जीवनभर से सहती रहती है। दुनिया भर के ताने सुनती हैं। घुट -घुट कर जीवन जी रही बेटी- बहु !

अपनों से दर्द छुपा, जग में कैसे रहती हैं नारिया ,
मां बन कर जीवन देती नारी, बहन बन कर दुलार लुटाती है,

बन जीवन संगिनी , हर रूप में कर्तव्य निभाती है।
कलयुग में आज नारी जीवन है हर दिन श्रापित !

दहेज के लिए मारी जाती रही हैं नारी,
दहेज लोभियों को सरेआम हथकड़ी लगाना होगा

संसार से यह कलंक मिटाना होगा,
नारी की रक्षा का भार शासन को उठाना ही होगा !

बनो जागरूक और बताओ सभी को तुम नारी
कहते हैं जो अबला तुम्हे ,उन्हें अपनी साहस दिखाओ तुम।

तुम ना होती तो कैसे होता संसार,
शिष्टी का आधार हो तुम नारी !!

199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
निगाहों से पूछो
निगाहों से पूछो
Surinder blackpen
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विरह–व्यथा
विरह–व्यथा
singh kunwar sarvendra vikram
पृष्ठों पर बांँध से
पृष्ठों पर बांँध से
Neelam Sharma
मैं गलत नहीं हूँ
मैं गलत नहीं हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
हरि हृदय को हरा करें,
हरि हृदय को हरा करें,
sushil sarna
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सूरत से यूं बरसते हैं अंगारें कि जैसे..
सूरत से यूं बरसते हैं अंगारें कि जैसे..
Shweta Soni
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
Sunil Maheshwari
स्वागत है  इस नूतन का  यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
Shyam Sundar Subramanian
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
#बन_जाओ_नेता
#बन_जाओ_नेता
*प्रणय प्रभात*
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...