Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

नादान परिंदा

नादान परिंदा
बेचारा
फंस गया देख
मुलायम चारा।

मना किया था
माता ने
विश्वास न करना
मानव पे।

चिकनी चुपड़ी
बात ये करते
मन मे बहुत पाप
है धरते।

बिन मतलब के
प्यार न करते
वक़्त पड़े
अपने को हतते।

हृदय हीन हो रहे
है ये सब
इनमें संवेदना
शेष नही अब।

नानवेज
तेजी से खाते
ध्वजा अहिंसा
का है ढोते।

निर्मेष
दूर अब इनसे
रहना
सुनो परिंदे मानो
कहना।

निर्मेष

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
*प्रणय प्रभात*
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
अरशद रसूल बदायूंनी
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
शोषण
शोषण
साहिल
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
डॉक्टर रागिनी
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
Dr MusafiR BaithA
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
Ravi Prakash
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
नवीन जोशी 'नवल'
मां
मां
Amrit Lal
बेकरार दिल
बेकरार दिल
Ritu Asooja
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
अंसार एटवी
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
Loading...