Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

नाचतीं काली घटाएँ थिरकती बरसात

नाचतीं काली घटाएँ थिरकती बरसात है
इक कहानी बनके आई ये सुहानी रात है
झूमता फिरता पवन बिन साजन
जिया मे आग लगावे नशीले झोंके
नैनो मे विरह के घन बरसते
उमड़ते-गरजते चले आ रहे घन
घिरा व्योम सारा कि बहता प्रभंजन,
अंधेरी उभरती अवनि पर निशा-सी
घटाएँ सुहानी उड़ी दे निमंत्रण!
कि बरसो जलद रे जलन पर निरन्तर
तपी और झुलसे दिल की धरती दिन भर,
करो शांत प्रत्येक कण आज शीतल
हरी हो, भरी हो मन की प्रकृति नव्य सुन्दर!
झड़ी पर, झड़ी पर, झड़ी पर, झड़ी हो
जगत-मंच पर सौम्य प्रियतमा खड़ी हो,
गगन से झरो मेघ ओ! आज रिमझिम,
बरस लो सतत, मोतियों-सी लड़ी हो!
चाहा था कि भीगें तेरी बारिश में हम मगर
अपने ही सुलगते हुए ख्वाबों में जले हैं।
सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ
इक कहानी बनके आई ये सुहानी रात है
नाचतीं काली घटाएँ थिरकती बरसात है
।।कांत।। सुरेश शर्मा

Language: Hindi
534 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हटा 370 धारा
हटा 370 धारा
लक्ष्मी सिंह
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
मुक्तक... हंसगति छन्द
मुक्तक... हंसगति छन्द
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ जागो या फिर भागो...!!
■ जागो या फिर भागो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
नेता
नेता
Punam Pande
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
*अध्याय 10*
*अध्याय 10*
Ravi Prakash
आओ वृक्ष लगाओ जी..
आओ वृक्ष लगाओ जी..
Seema Garg
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
हॉं और ना
हॉं और ना
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...