Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *

*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
—————————————————
नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में
नहीं वह स्वाद होटल में, नहीं वह घर की थाली में
जगत की वस्तुओं के वह, कहाँ संग्रह में सुख मिलता
जगत जो छोड़ मिलता, ध्यान की मस्ती में खाली में
————————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
बीत गया सो बीत गया...
बीत गया सो बीत गया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2644.पूर्णिका
2644.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ वही हालात बेढंगे जो पहले थे वो अब भी हैं।
■ वही हालात बेढंगे जो पहले थे वो अब भी हैं।
*प्रणय प्रभात*
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
Ajad Mandori
चित्र आधारित चौपाई रचना
चित्र आधारित चौपाई रचना
गुमनाम 'बाबा'
लक्ष्य
लक्ष्य
Mukta Rashmi
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
"बँटवारा"
Dr. Kishan tandon kranti
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
लौटेगी ना फिर कभी,
लौटेगी ना फिर कभी,
sushil sarna
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
मै भी सुना सकता हूँ
मै भी सुना सकता हूँ
Anil chobisa
.....,
.....,
शेखर सिंह
मंजिल न मिले
मंजिल न मिले
Meera Thakur
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
Loading...