Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

नहीं-नहीं प्रिये!

#दिनांक:-24/5/2024
#शीर्षक:-नहीं-नहीं प्रिये!

ध्रुव तारा को देखो प्रिये ,
अडिग अपनी जगह खड़ा ।
निश्छल निश्चिंत निर्विवाद,
चाह की राह में शून्य-सा पड़ा।

मौसम का किरदार साथी बनता,
कभी गरजता कभी तपन चुनता।
याद झरोखे पर, भाव दरवाजे पर,
प्रेम, प्रेम को चाँद सितारों से बुनता।

गहरा कितना भेदना मुश्किल,
जैसे अंधेरे में चलना मुश्किल।
गम खुशी क्रमशः आते- जाते,
अस्थिरता ऐसी कुछ कहना मुश्किल।

बातों की बहती रसधार अनवरत ,
स्नेहिल खुमार परत-दर-परत,
एक पल की दूरी प्रतीत अनगिनत साल,
ओह मोहब्बत से दूरी जीवन होगा नरक।

नहीं- नहीं प्रिये!
कभी न विछोह की कसम खाते हैं,
तेरे बिना खुद को अधूरा-सा पाते हैं
प्रेम की सोंधी खुशबू बिखरी सॉंसों में,
चल एक-दूजे की बाँहों में समा जाते हैं ।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरुकुल भारत
गुरुकुल भारत
Sanjay ' शून्य'
🙅सीधी बात🙅
🙅सीधी बात🙅
*प्रणय प्रभात*
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
सच्चा मन का मीत वो,
सच्चा मन का मीत वो,
sushil sarna
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
पढ़ता  भारतवर्ष  है, गीता,  वेद,  पुराण
पढ़ता भारतवर्ष है, गीता, वेद, पुराण
Anil Mishra Prahari
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*आदत*
*आदत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
भागदौड़ भरी जिंदगी
भागदौड़ भरी जिंदगी
Bindesh kumar jha
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
घुली अजब सी भांग
घुली अजब सी भांग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गांव और वसंत
गांव और वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
The greatest luck generator - show up
The greatest luck generator - show up
पूर्वार्थ
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...