Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता

नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता,
कि मैं लुटाता रहूँ तुम पर अपनी खुशियाँ,
तुमको अपना विश्वासपात्र मानकर,
और तू बेअसर रहे बुत बनकर,
तुमसे मिले यदि मुझको सिर्फ आँसू ही।

नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता,
कि मैं करता रहूँ तेरी तारीफ,
महफिलों में और मजलिसों में,
और तू चलाती रहे मेरी पीठ पर तीर,
करती रहे मेरी तौहीन ठहाके लगाकर।

नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता,
कि मैं बहाता रहूँ अपना पसीना,
तुम्हारे चमन को सींचने के लिए,
बहाता रहूँ मैं अपना खून हमेशा,
तेरी इज्ज्ज्त को बचाने के लिए
और तू उजाड़ती रहे मेरी बस्ती।

नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता,
कि मैं मांगता रहूँ तेरे लिए दुहायें,
और तुमसे हमेशा वफादार रहूँ,
और तू बेखबर होकर मुझसे,
करती रहे मेरे अरमानों का खून।
नहीं,अब ऐसा नहीं हो सकता———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
299 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
Arvind trivedi
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
Li Be B
Li Be B
Ankita Patel
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-376💐
💐प्रेम कौतुक-376💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
Loading...