Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2017 · 1 min read

नव वर्ष

सभी दोस्तों को नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं….
?????
गाता, गुनगुनाता,
मन को हर्षाता,
नव वर्ष आता।
?????
पत्तों पर सरसराता,
ठंड से ठिठुराता,
धरा पर ओस बिछाता,
कोहरों में मुँह छुपाता,
नव कलियों-सा मुस्कुराता,
नव वर्ष आता।
?????
नवीन परिवर्तन लाता,
अंजुरी भर खुशियाँ लाता,
मौन निमंत्रण देता,
मन-ही-मन इतराता,
नव वसंत-सा लुभाता,
नव वर्ष आता।
?????
प्यार को निखारता,
सबके मन को भाता,
बच्चों को हँसता,
बड़े-बूढ़ों को रिझाता,
नव वधु-सा लजाता,
नव वर्ष आता।
????
ख्वाबों को सजाता,
अरमानों का भर प्याला,
आशा का दीप जलाता,
मन में विश्वास भरता,
नव किरणों-सा पाॅव फैलाता,
नव वर्ष आता।
?????
साल भर सब सहता,
पर आह नहीं भरता,
यादों की गठरी बाँधता,
मंगलमय गीत गाता,
नव इन्द्रधनुष-सा लुभाता,
नव वर्ष आता।
?????
गाता, गुनगुनाता,
मन को हर्षाता,
नव वर्ष आता।
??—लक्ष्मी सिंह ?☺

Language: Hindi
396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
अधूरी हसरतें
अधूरी हसरतें
Surinder blackpen
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
Subhash Singhai
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
" रहना तुम्हारे सँग "
DrLakshman Jha Parimal
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...