Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

* नव जागरण *

** नवगीत **
~~
संगीत का अब प्रकृति में
हो रहा नव जागरण।

शीत से कुछ थम गई थी,
और मद्धम हो गई थी।
किन्तु वासंती लहर का,
हो रहा उनमें स्फुरण।

चहचहाना पाखियोँ का,
मोहता है मन सभी का।
साथ प्रकृति में हुआ,
नव कोंपलों का अंकुरण।

खेत में खलिहान में,
हर जीव में इन्सान में।
एक नूतन आस का,
हो रहा है अवतरण।

इन्द्रधनुषी रंग बिखरे,
खुशबुओं से पुष्प निखरे।
भर रही ऊर्जा हृदय में,
स्वर्णमय रवि की किरण।
~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

1 Like · 1 Comment · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
"" *माँ सरस्वती* ""
सुनीलानंद महंत
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
जोकर
जोकर
Neelam Sharma
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रेम की परिभाषा क्या है
प्रेम की परिभाषा क्या है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...