Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

नवरात्र साधना पर्व

आ गया पर्व साधना का,
नवरात्रि के नाम से।
शक्ति उपासना करके सुधारे,
जीवन लक्ष्य सत्कार्य से।
पेट प्रजनन आवास ही,
जीवन उद्देश्य नहीं है।
करें सत्कर्म साधक बन,
आत्मोनन्ति मार्ग यहीं हैं।
रजस्वला होती है प्रकृति,
चैत्र-आश्विन मास में ।
संक्रमण बढ़ता अधिक,
व्याप्त होता संसार में।
नो दिवस लगता समय,
दोष निवारण चाल में।
ऋतुओं का हे संधिकाल,
छैमाही अन्तराल में।
होते विचार प्रदूषित,
आत्मबल भी घटता है।
ऋतु परिवर्तन का। सूक्ष्म प्रभाव,
स्वास्थ पर भी पड़़ता है।
इसी बजह ऋषि मुनियों ने,
साधना पर जोर दिया है।
शारीरिक मानसिक मल विक्षेप,
दूर कराने प्रयत्न किया है।
नवरात्रि की न्यून स़ाधना,
अतिशुभ परम उपयोगि है।
उपवास जप या अनुष्ठान,
सामर्थ्यानुकूल जरूरी ह़ै।
कहता वैदिक धर्म सबहीं से,
सफलता देती है साधना।
सृजन और प्रकाश करती,
पूर्ण होति है सभी मनोकामना।

राजेश कौरव “सुमित्र”(उ.श्रे.शि.)

Language: Hindi
1 Like · 697 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajesh Kumar Kaurav
View all
You may also like:
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
"इफ़्तिताह" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शाम
शाम
Kanchan Khanna
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
"नारियल"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...