Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

नवरात्रि-गीत /

ढारती हैं
सुगर बिटियें
माई पर जल,
‘मुँह-अँधेरे’ ।

अनवरत क्रम
चल रहा है,
चैत्र में औ’ आश्विन में ;
भाव-भगतें
और सेवा
रात में भी और दिन में ;

रतजगे हैं
मठ-मढ़ों में,
भजन होते
मन्दिरों में,
शंख बजते
हैं, सबेरे ।

बोए जाते
हैं, जवारे
दिवालों में,देह पर भी ;
भक्ति का
उन्माद छाया
घृणा पर भी,नेह पर भी ;

दुआ बरसी
‘फाड़ छप्पर’
दीप जलते,
सजे खप्पर,
चित्र खींचें
ज्यों-चितेरे ।

भाव खेलें
चतुर पण्डे,
झाड़ते औ’ फूकते हैं ;
दौर नौ दिन
छल-कपट के,
सफल होते,चूकते हैं ;

मांस बिक्रय
मंद पड़ता
और मावा
भाव चढ़ता,
पुज रहे
पत्थर घनेरे ।

भाव, पूजा
भक्ति,श्रद्धा
और कुछ पाखंड भी है ;
साम-मिश्रित
दाम है औ’
भेद-मिश्रित दंड भी है ;

देव-असुरों
का महारण,
रात्रियाँ नौ
हैं विलक्षण,
मातृ-शक्ति
के बसेरे ।

लिए थाली
और लोटा,
हरद,अक्षत,पुष्प,रोली ;
खेरमाता
को चढ़ाने,
लिए जातीं लाल चोली ;

एक मढ़ से
दूसरे तक,
भाव-श्रद्धा
भरीं भरसक,
दे रहीं हैं
रोज़ फेरे ।

ढारती हैं
सुगर बिटियें
माई पर जल
‘मुँह-अँधेरे’ ।
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी(रहली),सागर
मध्यप्रदेश-470227
मो.-8463884927,
7000939929

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 14 Comments · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
Dr. Alpana Suhasini
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
शेखर सिंह
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
युवराज को जबरन
युवराज को जबरन "लंगोट" धारण कराने की कोशिश का अंतिम दिन आज।
*Author प्रणय प्रभात*
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
Ravi Prakash
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
सियासत
सियासत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...