Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 2 min read

नर नारी

नर नारी
*******
लेखक, डॉ विजय कुमार कन्नौजे छत्तीसगढ़ रायपुर आरंग अमोदी
———————————————-
संसार में सबसे ऊंचा स्थान नारी का है
फिर नारियां पुरुष के सामने क्यों झुकती है?
उदाहरण, स्वरूप एक व्यक्ति सीढ़ी के ऊपर चढ़ना चाहता था पर उसे सीढ़ी सम्हालने के लिए दुसरा व्यक्ति की जरूरत पड़ा,
दुसरा व्यक्ति सीढ़ी सम्हालने लगा फिर वह पहला व्यक्ति सीढ़ी में चढ़ कर अपना काम करने लगा, अचानक उसे प्यास लगी तब वह ऊपर में चढ़ा व्यक्ति नीचे वाले से कहता है की मेरे लिए पानी ला ,अब सोचिए नीचे वाले व्यक्ति पानी के लिए जायेगा तो ऊपर वाले का क्या हाल होगा, गिरकर मौत के मुंह में चला जायेगा। इसलिए वह बार बार प्रार्थना करता है भैया सीढ़ी छोड़ना मत मैं तेरा पांव पड़ता हूं,तू जो कहेगा मैं तुम्हें दे दूंगा। ठीक वैसे ही नारी का स्थान सबसे ऊपर होते हुए भी उनकी मर्यादा रूपी सीढ़ी को पुरूष जीवनभर सम्हाले रखता है,
अब नीचे वाले महाशय को घमंड हो जाता है की मैं तेरा सीढ़ी सम्हालने का काम किया है मैं तुमसे महान हूं,तब ऊपर रहने वाला व्यक्ति नीचे उतरकर चला जाता है,और वह दूसरा व्यक्ति सीढ़ी पकड़े खड़ा रहता है,जो भी आते,सभी देखनें वाले उसे पागल कहने लगे,कहने का आशय यह है कि जब ऊपर में को चढ़ा है तभी नीचे रहकर सीढ़ी सम्हालने वाले का सम्मान है अन्यथा उसका कोई कीमत नही है , ठीक वैसे ही नारी है तब पुरूष का सम्मान है विधुर व्यक्ति का कोई इज्जत नहीं है।
लिखने का भाव यह है कि,नर और नारी एक दुसरे का पुरक है, जैसे आंख और प्रकाश, आंख है पर प्रकाश नहीं है तब भी दिखाई नहीं पड़ता और प्रकाश है आंख से अंधा है पर भी दिखाई नहीं पड़ता अर्थात देखने के लिए आंख और प्रकाश दोनों जरूरी है ठीक वैसे ही संसार में पति-पत्नी दोनों की अपने अपने एक विशेष महत्व है
एक दुजे के बिना दोनों अधुरा है, इसलिए नारी को अलग समझना मुर्खता है वह आधे अंग की मालकिन अर्धांगिनी कहलाती हैं,
पति पत्नी एक दुजे के दुःख दर्द समझकर
जिंदगी की गाड़ी को बराबर चलाएं, इसलिए नर नारी को गाड़ी का दो पहिया भी कहा जाता है।
धन्यवाद
————–++—————————-+++–

Language: Hindi
49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
देश हमारा
देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
अच्छे दिन
अच्छे दिन
Shekhar Chandra Mitra
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#  कर्म श्रेष्ठ या धर्म  ??
# कर्म श्रेष्ठ या धर्म ??
Seema Verma
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
प्रहरी नित जागता है
प्रहरी नित जागता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
Ravi Prakash
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
Loading...