Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।

मुक्तक

नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
मिले जो मुफ्त में, गंगा नहाना चाहता हूं।
कि खाना हो न हो, चिंता नहीं है यार मेरे,
मिलेगी मुफ्त में तो आ के पीना चाहता हूं।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
Er. Sanjay Shrivastava
बरसों की ज़िंदगी पर
बरसों की ज़िंदगी पर
Dr fauzia Naseem shad
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
कण कण में है श्रीराम
कण कण में है श्रीराम
Santosh kumar Miri
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
" सुनो "
Dr. Kishan tandon kranti
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
ज़िंदगी में अपना पराया
ज़िंदगी में अपना पराया
नेताम आर सी
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विवशता
विवशता
आशा शैली
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
आजा रे आजा घनश्याम तू आजा
आजा रे आजा घनश्याम तू आजा
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
Loading...