Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2019 · 1 min read

नया साल मुबारक हो 2020के लिए

नया साल,नया दिन,नयी रात मुबारक हो
वही मुल्क और वही हालात मुबारक हो ।
वही सुबह, वही शाम, वही नाम ,वही काम
वही उम्मीदों की झूठी सौगात मुबारक हो ।
वही मिलनाऔ बिछड़ना,रूठना औ मनाना
ज़िंदगी से फिर वही मुलाकात मुबारक हो ।
तकनीकी तरक़्क़ी और खोखली रंगरलिया
दम तोड़ती तहजीब की वफ़ात मुबारक हो ।
बेलगाम नयी पीढ़ी, लिए खुदगर्ज़ी की सीढ़ी
रिश्तों व रिवाजों से दिलाते नीज़ात मुबारक हो ।
लूट,मार, व्यभिचार, भ्रष्टाचार और ब्लात्कार
अन्धा कानून और बेजा हवालात मुबारक हो ।
आत्महत्या करते किसान,बेरोजगार नौजबान
आतंकित समसामयिक सवालात मुबारक हो ।
शोर शराबा ,अश्लील पहनावा और नंगा नाच
गालियों से भरे बेसुरे भद्दे नगमात मुबारक हो ।
मुद्दों से भटके चैनलों पे चर्चे,बेशर्म नुमाइंदों के
करते टीवी पे बद ज़ुवानी फंसादात मुबारक हो
हर बार की तरह ,हर साल की तरह हम सब को
अजय,उम्मीद पे कायम ये कायनात मुबारक हो ।

-अजय प्रसाद

3 Likes · 3 Comments · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Lines of day
Lines of day
Sampada
"उन्हें भी हक़ है जीने का"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
,,
,,
Sonit Parjapati
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
■ विनम्र अपील...
■ विनम्र अपील...
*प्रणय प्रभात*
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
संतुलन
संतुलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
3489.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3489.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
Rituraj shivem verma
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
Phool gufran
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
*मायूस चेहरा*
*मायूस चेहरा*
Harminder Kaur
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
जिंदा है हम
जिंदा है हम
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
Loading...