Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

नया भारत

नया भारत
भारत ने फिर से किया, दुनिया का भ्रम दूर।
चंदा मामा है नहीं, अब भारत से दूर।।
दिग्भ्रमित सभी हो गए, पूंजीवादी देश।
कैसे इतना बदल गया, भारत का परिवेश।।
हम नभमंडल के सूरमा, कहते थे जो देश।
भारत देखा चांद पर, भूल गए उपदेश।।
यह भूमि आर्यभट्ट की, सन्धानों की खान।
विश्व लगा था भूलने , आज दे रहा ध्यान।।
©दुष्यन्त ‘बाबा’

235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
💐प्रेम कौतुक-163💐
💐प्रेम कौतुक-163💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
Ranjeet kumar patre
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
DrLakshman Jha Parimal
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
*Author प्रणय प्रभात*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
3243.*पूर्णिका*
3243.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
"ओखली"
Dr. Kishan tandon kranti
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
Loading...