Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

नया इतिहास

सृष्टि के भीतर जब सन्नाटा घिरता है,
भावों का ज्वार धीमे से उतरता है।
मानव मस्तिष्क मन का दिक् दर्शक बन,
आत्म प्रलय का स्वयं प्रणेता बनता है।
उस आत्मयज्ञ में निज सपनों की बलि दे,
हरा भरा चंदन वन समिधा बनता है।
चुप चुप आहें भर अपना दर्द छिपा कर,
मंत्रों का एक अनूठा जप करता है।
लुटा- पिटा सा मनु अपनी आकुलता से,
सुधि बिसरा खुद चिंता मे रमा करता है।
अहं का हिमखंड श्रद्धा की ऊष्मा से,
पिघल पिघल कर निर्मल सलिल बनता है।
सृष्टि के नवीन सृजन में प्यार हमेशा,
युग का नया इतिहास रचा करता है।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
2532.पूर्णिका
2532.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#एक_स्तुति
#एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
-- धरती फटेगी जरूर --
-- धरती फटेगी जरूर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितनी यादों को
कितनी यादों को
Dr fauzia Naseem shad
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
जल से निकली जलपरी
जल से निकली जलपरी
लक्ष्मी सिंह
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
छल ......
छल ......
sushil sarna
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
Ravi Prakash
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...