Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2019 · 1 min read

नया इंक़लाब

मुझको मेरा हक़ मिला
तू रह गया तो मुझको क्या
मैं किनारे लग गया
तू बह गया तो मुझको क्या

मैंने चींख चींख कर
डंडे से मसला तय किया
तेरी दुकान जल गई
तू ढह गया तो मुझको क्या

ये चलन अब गर्म है
धरने पर जाकर बैठ जा
मैंने रोटी सेंक ली
तू जल गया तो मुझको क्या

अपने अपने जात के
देवों को दिल्ली भेजिए
कृष्ण सिर्फ यदुवंशियों
का हो गया तो मुझको क्या

वो बर्फ मे दफन था
और जे एन यू मे
अफ़ज़ल पर बहस
दिल्ली मे ऐसा ऑड इवन
हो गया तो मुझको क्या

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Umesh Kumar Sharma
View all
You may also like:
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
नया साल
नया साल
umesh mehra
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
SPK Sachin Lodhi
दहकता सूरज
दहकता सूरज
Shweta Soni
" लोग "
Chunnu Lal Gupta
पुस्तक
पुस्तक
Sangeeta Beniwal
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
"ऊंट पे टांग" रख के नाच लीजिए। बस "ऊट-पटांग" मत लिखिए। ख़ुदा
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
तुम्हें आसमान मुबारक
तुम्हें आसमान मुबारक
Shekhar Chandra Mitra
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनमोल मोती
अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
*विद्या  विनय  के  साथ  हो,  माँ शारदे वर दो*
*विद्या विनय के साथ हो, माँ शारदे वर दो*
Ravi Prakash
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शेखर सिंह
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...