Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नयन

विषय,,, नयन

कान्हा ने राधिका को निहारा
भाव आसमां को नयनो मे उतारा
फूलो की बगिया,, ऊपर भवँरा,
मन्द मन्द मुस्काय ,राधे पुकारा।

राधे कान्हा से यह बोली

तेरी नयनो में अजीब संसार
समंदर खारा नदी मीठी धार
बहती है मोहब्बत की बयार
सगुन मिले मुझे पलको से
कहाँ से लाऊं नजारे उधार ।

हरी हरी फैली धरा पर चादर
देख धरा को झूमे यह मस्त सागर
मंडफिया में गोपियां बोली
वंशी बजाएंगे कान्हा यहां आकर

देख कान्हा को गोपिन तिरछी
नजरो से मस्त खुशी से निहारे
जल्दी आजाओ नदी तीरे
वंशी से हमे रास नचारे ।

उधर देवकीनंदन सुदामा को
रोते रोते तेज दौड़े आए ,
देख कांटो से छिले पैर
मिले गले नयनो से आँशु झर झर
आए ।

✍प्रवीण शर्मा ताल
स्वरचित मौलिक रचना
मोबाइल नंबर 9165996865

216 Views
You may also like:
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
'अशांत' शेखर
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ईद मना रही है।
Taj Mohammad
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
फ़ासला
मनोज कर्ण
" IDENTITY "
DrLakshman Jha Parimal
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जम्हूरियत
बिमल
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
'अशांत' शेखर
Loading...