Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2019 · 1 min read

नयन

विषय,,, नयन

कान्हा ने राधिका को निहारा
भाव आसमां को नयनो मे उतारा
फूलो की बगिया,, ऊपर भवँरा,
मन्द मन्द मुस्काय ,राधे पुकारा।

राधे कान्हा से यह बोली

तेरी नयनो में अजीब संसार
समंदर खारा नदी मीठी धार
बहती है मोहब्बत की बयार
सगुन मिले मुझे पलको से
कहाँ से लाऊं नजारे उधार ।

हरी हरी फैली धरा पर चादर
देख धरा को झूमे यह मस्त सागर
मंडफिया में गोपियां बोली
वंशी बजाएंगे कान्हा यहां आकर

देख कान्हा को गोपिन तिरछी
नजरो से मस्त खुशी से निहारे
जल्दी आजाओ नदी तीरे
वंशी से हमे रास नचारे ।

उधर देवकीनंदन सुदामा को
रोते रोते तेज दौड़े आए ,
देख कांटो से छिले पैर
मिले गले नयनो से आँशु झर झर
आए ।

✍प्रवीण शर्मा ताल
स्वरचित मौलिक रचना
मोबाइल नंबर 9165996865

Language: Hindi
443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#मंगलकांनाएँ
#मंगलकांनाएँ
*Author प्रणय प्रभात*
मरीचिका सी जिन्दगी,
मरीचिका सी जिन्दगी,
sushil sarna
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विपक्ष आत्मघाती है
विपक्ष आत्मघाती है
Shekhar Chandra Mitra
#आलिंगनदिवस
#आलिंगनदिवस
सत्य कुमार प्रेमी
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
'अशांत' शेखर
चाहे जितनी देर लगे।
चाहे जितनी देर लगे।
Buddha Prakash
💐अज्ञात के प्रति-72💐
💐अज्ञात के प्रति-72💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
कौन याद दिलाएगा शक्ति
कौन याद दिलाएगा शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
*हटरी (बाल कविता)*
*हटरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डिजिटलीकरण
डिजिटलीकरण
Seema gupta,Alwar
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
Loading...