Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

नम आँखे

सुहानी शाम कितनी हो
भरा हो प्रेम अंतस में ,
बिना तेरे लगे फीका
नहीं मन लागे उपवन में ।

कहा बेशक था हमने कि
बड़े शिद्दत से चाहा था,
सदी को त्याग कर मैंने
तुम्हे था दिल से अपनाया ।

प्रेम महलो का बासिन्दा
कभी भी हो नहीं सकता ,
सभी है जानते यह सच
कमल कीचड में है खिलता ।

दिवस भी धुंध सा लगता
उनीदी लगती है रातें ,
सरोवर जल से ठहरी नींद
जब होती नहीं बातें।

तेरी नम आँखों में आंसूं
नहीं बहते है क्यों करके,
किया है यत्न पर कितना
नहीं बेबस निकलते है।

घटा ना झूम के बरसी
नहीं सावन ही है आया,
कही फूलों के अश्कों ने
नहीं तुमको है भरमाया ।

बनी है दुर्ग वो पलकें
बने भौवें है पहरेदार,
निभाते अश्क भी रस्मे
बने जैसे हो रिश्तेदार।

यही करके तेरे आंसूं
कदाचित है रहे सिमटे ,
कही कमजोर न बन जाओ
रहे पलकों पे वे ठिठके।

जबकि जुल्म झेले है
वफ़ा से अपने ये ज्यादा ,
सहे अवसाद कितने फिर
भी पूरा किया वादा।

तेरी आँखे है नम क्यू आज
समझ आता नहीं मुझको ,
किसी ने दिल दुखाया या
किसी का दिल दुखा तुमसे।

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
*किताब*
*किताब*
Dushyant Kumar
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का  इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
"रोशनी की जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण की राधा बावरी
कृष्ण की राधा बावरी
Mangilal 713
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उम्मीद की नाव
उम्मीद की नाव
Karuna Goswami
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मरने के बाद करेंगे आराम
मरने के बाद करेंगे आराम
Keshav kishor Kumar
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
*प्रणय प्रभात*
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
Loading...