Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

नमन मंच

नमन मंच विषय- मुक्तक ——————————-
“सच तो बादलों की बरसात से मन का रिश्ता हमारा था।……
हां बरसने वाली, काली घटाएं बादलों के रुप से पलकों में किया तेरा सामना हर बार कुछ रिश्ता बन गया था। हम वहां न रोक पाए एक बार भी “”प्यार की जादूगरी का वो बाजीगर जो मेरे साथ रहता था। बस गीली -गीली बूंदों का एहसासों में वो रहता था।
हां झर झर बह जाते है आंखों से अश्क ” कुछ बूंदे बरस कर मेरी
प्यास बढ़ा कर वो चली जाती,बस
यही तेरी मेरी सिर्फ याद बना कर चली जाती थी बदरा हां हम जलते हुए जिस्मों को जलाकर खुश हो जाती थी।
हमारी आंखों से बनकर बूंद जो बनी मोती बरस जाती थी”!.………
सच तो बदरा बादल मन की यादों में कसक सी रह जाती थी।

नीरज अग्रवाल चन्दौसी उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
Surinder blackpen
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
gurudeenverma198
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
नज़रिया
नज़रिया
Dr. Kishan tandon kranti
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
Loading...