Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

नन्हा मछुआरा

हीरू है इक नन्हा मछुआरा
देखा उसने सागर सारा
सागर में आईं कितनी लहरें
लहरों से वो कभी न हारा

हीरू की नाव है छोटी
छोटी नाव की पतवार भी छोटी
पर है वो साहस की धारा
नाम है उसका भोर का तारा

सुबह सवेरे वो उठ जाता
नाव को अपनी खूब सजाता
धीरे से वो आगे बढ़ता
लहरों पर वो उठता तिरता

सागर से वो बातें करता
लहरों से खिलवाड़ वो करता
बादल की हर आहट सुनता
वायु की हर चाल समझता

झोला-भर वो मछली लाता
उसको तो बस इतना आता
माँ देख कर खूब इतराती
प्यार से उसकी आँखें भर आती

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
#कहानी-
#कहानी-
*Author प्रणय प्रभात*
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
Ranjeet kumar patre
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
बावला
बावला
Ajay Mishra
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
दोहा त्रयी. . . शंका
दोहा त्रयी. . . शंका
sushil sarna
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
अनमोल आँसू
अनमोल आँसू
Awadhesh Singh
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
सिसकियाँ जो स्याह कमरों को रुलाती हैं
सिसकियाँ जो स्याह कमरों को रुलाती हैं
Manisha Manjari
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...