Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2023 · 1 min read

नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे

नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
वहां अब लोग आते हैं हमेशा ही वज़ू करने

Johnny Ahmed क़ैस

180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-167💐
💐प्रेम कौतुक-167💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
आपने खो दिया अगर खुद को
आपने खो दिया अगर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
"जन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
Atul "Krishn"
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
..........?
..........?
शेखर सिंह
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...