Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

* नदी की धार *

** मुक्तक **
~~
नदी की धार के विपरीत बहना है बहुत मुश्किल।
न निर्झरणी कभी रुकती बहे ही जा रही अविरल।
बहा करती नदी देखो समुंदर लक्ष्य है उसका।
हमेशा प्राप्त कर लेती बिना चूके स्वयं मंजिल।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
दिया है जन्म इसने सभ्यताओं को जमाने में।
हमेशा से रही आगे तृषा सबकी बुझाने में।
नदी का काम बहना है अहर्निश बिन रुके अविरल।
मिला करता इसे आनन्द सागर में समाने में।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
पहाड़ों में बहा करती बहुत है संकरी राहें।
नदी कल-कल सुनाती रागिनी गूंजें चरागाहें।
हुआ करते सभी हैं तृप्त पीकर जल अमिय जैसा।
गले सबको लगाती खूब फैलाती सदा बाहें।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १४/०३/२०२४

1 Like · 1 Comment · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3136.*पूर्णिका*
3136.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुछ अच्छा करने की चाहत है
कुछ अच्छा करने की चाहत है
विकास शुक्ल
निराला जी पर दोहा
निराला जी पर दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली के हुड़दंग में ,
होली के हुड़दंग में ,
sushil sarna
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
Manisha Manjari
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*Author प्रणय प्रभात*
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"मदहोश"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...