Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2022 · 3 min read

नदियों का दर्द

नदियाँ ओ मेरी नदियाँ
क्यों धीमी सी लगती है,
आज तेरी यह रफ्तार !
क्यों सुस्त-सुस्त सी लगती है
आज तेरी यह धार!

क्या भूल गई है तू अपनी
पहले वाली मस्तानी चाल!
क्या भूल गई तू अपनी
लहरो की पहले वाली उछाल!

क्यों थकी -थकी सी लगती हो,
तुम मुझको आज!
किस बात का गम है तुझे
क्यों हो तुम इतनी उदास!

क्यों पहले वाला, जैसा तेज
तेरे चेहरे पर नही है आज!
तेरा चाँदी जैसा दिखने वाला पानी,
क्यों मैला दिख रहा आज!

क्यों सुरज की किरणों से
बनने वाला सुनहरा सितारा
तेरे जल पर मध्यम-मध्यम सा
दिख रहा है मुझको आज।

क्यों तेरा कल – कल का स्वर
धीमा सुनाई देता है आज!
क्यों तेरी वह मस्तानी लहर
पहले जैसे नहीं उठती है आज!

क्यों बुझी – बुझी सी दिखती हो
हर समय तुम मुझको आज।
तेरी वह अल्हड़ सा रूप
कहाँ खो गया है आज!

तेरी वह लहराती हँसी ने
क्यों मौन साध लिया है आज!
हर समय क्यों तुम मुझको
मुरझाई सी लगती हो आज!

ऐसा लग रहा जैसे तुम,
खुद में ही सिमटती जा रही हो आज ।
क्यों तुम ऐसे हार मानकर
धरती से सुखती जा रही हो आज!

क्यों तुम अपने आकार को
छोटी करती जा रही हो आज।
क्यों तेरे चेहरे पर हँसी नही
दिखती है आज।

ऐसा लग रहा जैसे तुम
बहुत बीमार रहती हो आजकल।
बता न नदियाँ,बता न मुझको
तुम्हें क्या हुआ,
कौन सी बात है जो इतना
तुमकों सता रही है आज।

नदियाँ बोली सुन मेरे बेटी
मैं तुमसे क्या कहूँ मे आज !
यह सब तुम सबका
ही तो किया धरा है।

पहले तुम सब मुझे
माँ का दर्जा देते थे।
मेरे जल को पावन रखकर
मेरा सम्मान करते थे ।

सारे जीव-जन्तु मेरे
पानी को पीकर
अपना प्यास बुझाते थे।
जीवनदायिनी समझ कर तुम सब,
मेरा सम्मान करते थे।

पहले मेरे पानी मैं किसी तरह का
कोई गंदगी नही था।
क्योंकि मेरे पानी के अंदर
कोई कचरा नही डालता था।

मेरा पानी शुद्ध और निर्मल
हर समय हुआ करता था।
जिसके कारण मेरे पानी मैं
कोई भारीपन नही था।

लेकिन अब जब तुम
सबने ने मिलकर
मेरे शुद्ध पानी को गंदगी
डालकर मैला कर दिया है।

अब इस गंदे पानी को लेकर
बहने में, मैं थक जाती हूँ ।
जिस कारण मै आजकल
बुझी-बुझी सी रहती हूँ।

रहा सवाल चाँदी जैसे रंग का
वह अब कहा से मैं लाऊँ
जब तुम सब ने मिलकर
मेरे पानी को मैला कर दिया।

अब इस मैले पानी पर मै
कैसे सुरज की किरणों का
वह सुनहरी सितारा दिखलाऊँ।
कैसे मे कल-कल का मीठा स्वर
तुम सब को मै सुनाऊँ।

इस गंदे पानी का बोझ
मैं कितना अब उठाऊँ।
इसको लेकर कैसे अब मे!
ऊँची-ऊँची लहरे लगाऊँ ।

वह मस्त लहर अब मै कैसे
फिर से तुम सब को दिखलाऊँ।
पहले वाली मस्तानी चाल,
वह मैं अब कहाँ से लाऊँ।

रहा सवाल मेरे आकार का
उसको मैं अब कैसे बढ़ाऊँ।
जब मेरे चारो तरफ तुम सब ने।
कुड़ा-कचड़ा भर दिया है।

मेरे पानी मैं तुम सब ने
जो इतना जहर घोल दिया है
उस पीकर कैसे अब,
मैं कैसे स्वस्थ रह पाँऊ!

अब तुम ही बताओं न बेटी
मैं कैसे खुश हो जाऊँ
जब मै अपने अंदर के जहर को
पीकर खुद बीमार रहने लगी हूँ।

अपने अन्दर मैला भरकर
कितना मै जी पाऊँगी।
इस सिसकी भरी साँस को
मैं कितना और थाम पाऊंगी

ऐसे अगर तुम सब मेरे
पानी को गंदा करते रहे
तो कुछ दिनों में इस धरती से
दम तोड़ जाऊँगी।

इसके बाद तुम सबका
क्या होगा।
यह सोचकर मै रहती हूँ
उदास।

~अनामिका

Language: Hindi
7 Likes · 5 Comments · 652 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता का सपना
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
जन्मदिन की बधाई
जन्मदिन की बधाई
DrLakshman Jha Parimal
लोभ मोह ईष्या 🙏
लोभ मोह ईष्या 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वो कॉलेज की खूबसूरत पलों के गुलदस्ते
वो कॉलेज की खूबसूरत पलों के गुलदस्ते
Ravi Shukla
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
हम सजदे में कंकरों की ख़्वाहिश रखते हैं, और जिंदगी सितारे हमारे नाम लिख कर जाती है।
हम सजदे में कंकरों की ख़्वाहिश रखते हैं, और जिंदगी सितारे हमारे नाम लिख कर जाती है।
Manisha Manjari
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
वह सिर्फ पिता होता है
वह सिर्फ पिता होता है
Dinesh Gupta
"फ्रांस के हालात
*Author प्रणय प्रभात*
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
Loading...